fbpx

Ajinkya Rahane vs Virat Kohli Captaincy: फॉर्म पर पूछा सवाल तो अजिंक्य रहाणे ने दिया जवाब, बात कप्तानी की आई तो बोले- मसाला नहीं दूंगा

हाइलाइट्स:

  • इंग्लैंड के खिलाफ हार के बाद विराट कोहली की कप्तानी पर सवाल उठ रहे हैं
  • इसे लेकर तमाम सवाल किए जा रहे हैं और लोगों की प्रतिक्रिया भी सामने आ रही है
  • जब इस बारे में अजिंक्य रहाणे से पूछा गया तो उन्होंने सीधे कहा- मसाला नहीं दूंगा

चेन्नै
भारतीय टेस्ट टीम के उपकप्तान अजिक्य रहाणे ने उनकी फॉर्म (बल्लेबाजी लय) को लेकर उठ रहे सवालों के जवाब में आलोचकों से कहा कि वे उनके पिछले 15 मैचों के रेकॉर्ड की जांच कर लें। रहाणे ऑस्ट्रेलिया दौरे पर मेलबर्न में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में शतक लगाने के बाद बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे है और इंग्लैंड के खिलाफ यहां पहले टेस्ट मैच को 227 रन से गंवाने के बाद कप्तान विराट कोहली ने भी रहाणे का बचाव किया था।

BJP में उस दिन शामिल होऊंगा, जिस दिन कश्मीर में काली बर्फ पड़ेगी: गुलाम नबी आजाद

रहाणे ने इंग्लैंड के खिलाफ चार मैचों की सीरीज के दूसरे टेस्ट से पहले कहा, ‘हम लगभग दो वर्षों के बाद घरेलू मैदान पर (टेस्ट) खेल रहे है। अगर आप पिछली घरेलू सीरीज के स्कोर को देखेंगे तो शायद वहां कुछ (बड़ा स्कोर) मिल जाए।’ रहाणे ने 2019 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उस सीरीज के एक मैच में 59 और 115 रन की पारियां खेली थी। उन्होंने कहा, ‘यह किसी व्यक्तिगत प्रदर्शन की जगह टीम के प्रदर्शन के बारे में है और मेरा ध्यान इस पर रहता है कि मैं टीम के लिए योगदान कैसे कर सकूं। अगर आप पिछले 10-15 टेस्ट मैचों के आंकड़े देखेंगे तो शायद आपको कुछ रन दिख जाएं।’

पिछले 15 टेस्ट में लगभग 1000 रन बनाने वाले उपकप्तान ने कहा,‘बाहरी दुनिया में क्या हो रहा है, इस पर मेरा ध्यान नहीं रहता है।’ रहाणे इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंझे हुए खिलाड़ी की तरह दिखे जो रह सवाल का जवाब चतुराई से दे रहा था। उनसे जब पूछा गया कि पहले टेस्ट में खिलाड़ियों का ‘बॉड़ी लैंग्वेज (भाव-भांगिमा)’ सकारात्मक नहीं लग रही थी क्या यह कप्तानी में बदलाव के कारण था। उन्होंने कहा, ‘खेल में जब आपकी ऊर्जा थोड़ी कम हो जाए तो ऐसा होता है लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि यह कप्तानी में बदलाव के कारण हुआ है। मैंने पहले भी कहा है कि विराट हमारे कप्तान है और रहेंगे।’

उन्होंने कहा, ‘अगर आप खोद कर कुछ मसाला निकालना चाह रहे हैं तो, दुर्भाग्य से आपको वह नहीं मिलेगा। बॉडी लैंग्वेज के नकारात्मक होने के कई कारण होते है पहले टेस्ट में शुरूआती दो दिनों के विकेट के कारण ऐसा हो सकता है। कई और कारण भी हो सकते है।’ चेतेश्वर पुजारा की ऑस्ट्रेलिया में बेहद धीमी बल्लेबाजी के बाद भारत में उनकी बल्लेबाजी में आए बदलाव के बारे में पूछे जाने पर रहाणे ने कहा, ‘टीम में उनकी बल्लेबाजी को लेकर कोई सवाल नहीं करता है। लोग बाहर क्या कहते है इसका कोई फर्क नहीं पड़ता।’

पढ़ें- अमेरिका-ब्रिटेन सब पीछे, टीकाकरण में भारत सबसे आगे, जानें कहां कितने लोगों को लगी वैक्सीन
उन्होंने बताया, ‘वह जिस तरह से ऑस्ट्रेलिया में खेले और यहां खेल रहे हैं वह हमारे लिए काफी जरूरी है। उन्हें लगभग 80 टेस्ट मैच खेले है और अपने खेल के बारे में वह अच्छे से जानते है, उनकी क्षमता पर सवाल नहीं उठ सकता।’ उन्होंने मुंबई के अपने साथी खिलाफ रोहित शर्मा का भी बचाव करते हुए कहा, ‘रोहित हमारी टीम का एक महत्वपूर्ण सदस्य है और वह 100 -150 रन नहीं बना पा रहे है, लेकिन ऑस्ट्रेलिया में, उन्हों अच्छी बल्लेबाजी की और महत्वपूर्ण यागदान दिया। दो (खराब) पारियां किसी को भी बुरा खिलाड़ी नहीं बनाती हैं।’