प्रसिद्ध कृष्णा ने बताया, ग्लेन मैक्ग्रा ने उन्हें सबसे ज्यादा क्या समझाया

प्रसिद्ध कृष्णा ने बताया, ग्लेन मैक्ग्रा ने उन्हें सबसे ज्यादा क्या समझाया

नई दिल्ली
प्रसिद्ध कृष्णा (Prasidh Krishna) ने अपने डेब्यू मैच में कमाल कर दिया। डेब्यू मैच में भारत की ओर से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले पुरुष गेंदबाज भी बन गए। इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज के पहले मैच में उन्होंने 24 रन देकर चार विकेट (Prasidh Krishna Debut) लिए। पुणे में खेली जा रही तीन मैचों की सीरीज में इसके साथ ही 1-0 की बढ़त हासिल कर ली है। कृष्णा ने अपने करियर में ग्लेन मैक्ग्रा (Glenn McGrath) की भूमिका के बारे में बात की है.


ऑस्ट्रेलिया के महान तेज गेंदबाज ग्लेन मैक्ग्रा (Glenn McGrath) ने अपने टेस्ट करियर में 563 विकेट लिए। मैक्ग्रा ने पहली बार प्रसिद्ध कृष्णा को चेन्नई स्थित एमआरएफ पेस अकादमी (MRF Pace Academy) में देखा था। और वहीं उन्होंने कृष्णा के हुनर को निखारने का काम किया।

कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR)के साथ खास तौर पर बात करते हुए कर्नाटक के तेज गेंदबाज ने बताया कि मैक्ग्रा (Glenn McGrath) ने उन्हें सही लाइन और लेंथ के साथ गेंदबाजी करने की महत्ता के बारे में काफी बताया और तैयार किया।

अपनी आईपीएल फ्रैंचाइजी से बात करते हुए कृष्णा ने कहा, 'उन्होंने (मैक्ग्रा) मुझे गेंदबाजी में शांत रहने के साथ ही अलग-अलग पिच पर सही लाइन और लेंथ पर टिके रहने का गुण दिया।'

मैक्ग्रा से सबसे पहले सीखा वर्तमान में रहना
इंग्लैंड के खिलाफ वनडे मैच में कृष्णा के चार विकेट इसलिए भी अधिक मायने रखते थे क्योंकि अपने पहले ही ओवर में जॉनी बेयरस्टो और जेसन रॉय ने उनकी गेंदबाजी पर काफी करारे आक्रमण किए थे।

25 वर्षीय इस तेज गेंदबाज ने अपने पहले तीन ओवरों में 37 रन दे दिए थे। लेकिन उन्होंने अपना संयम बनाए रखा और भारत को मैच में वापसी करवाई। इंग्लैंड के ओपनर्स ने बेहद तेज शुरुआत की थी और कृष्णा ने रॉय को आउट कर भारत को पहली कामयाबी दिलाई।

यह मैच का टर्निंग पॉइंट साबित हुआ इंग्लैंड जिसका स्कोर 14 ओवर में बिना कोई विकेट खोए 131 रन था वह 251 पर ऑल आउट हो गई। कृष्णा ने रॉय के बाद बेन स्टोक्स, सैम बिलिंग्स और टॉम करन के विकेट लिए।

मैच में अपनी दमदार वापसी का श्रेय कृष्णा अपने मेंटॉर को देते हैं। उन्होंने कहा कि मैक्ग्रा से सबसे पहले उन्होंने मौजूदा लम्हे में रहना सीखा।

कृष्णा ने कहा, 'मैंने मैक्ग्रा से सबसे पहली चीज यह सीखी कि चाहे जो हो जाए आपको वर्तमान में रहना है। और जब आप खेल रहे होते हैं तो किसी भी गेंदबाज के लिए यह बहुत अहम बात होती है।'


इससे पहले मैक्ग्रा ने भी अपने इस शार्गिद को इस शानदार डेब्यू के लिए इंस्टाग्राम पोस्ट के जरिए मुबारकबाद दी थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *