MI vs CSK: दो चैंपियन टीमों की टक्कर आज, कौन पड़ेगा किस पर भारी

नई दिल्ली
आईपीएल के इतिहास की दो सबसे सफल टीम मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स आज जब आपस में भिड़ेंगी तो यह इस सीजन का अब तक का सबसे जोरदार मुकाबला हो सकता है। ऐसा दोनों टीमों में मौजूद स्टार खिलाड़ी के साथ ही उनके कप्तानों की सफलताओं को देखकर कहा जा सकता है।


रोहित शर्मा की अगुआई में मुंबई जहां अब तक पांच बार खिताब जीत चुकी है तो महेंद्र सिंह धोनी भी चेन्नई को तीन बार चैंपियन बना चुके हैं। 


हालांकि इस बार मामला कुछ अलग है। चेन्नई की टीम जहां सीजन का पहला मुकाबला गंवाने के बाद लगातार पांच में जीत हासिल कर चुकी है तो मुंबई को इतने ही मैचों में केवल तीन में जीत मिली है। ऐसे में उसकी कोशिश इस मुकाबले में जीत हासिल कर पॉइंट्स टेबल में खुद को ऊपर करने की होगी।

मिडल ऑर्डर ने पकड़ी लय
दोनों टीमों के लिए अच्छी बात यह है कि उसने दिल्ली लेग की शुरुआत जीत के साथ की है। हालांकि मुंबई की तुलना में चेन्नई का प्रदर्शन हर विभाग में अब तक अच्छा रहा है। वैसे इस मैच का परिणाम काफी हद तक दोनों टीमों के टॉप ऑर्डर के प्रदर्शन पर निर्भर करेगा।

मुंबई के लिए रोहित शर्मा ने अच्छी शुरुआत की लेकिन बड़े स्कोर बनाने में माहिर 'हिटमैन' इस सीजन अभी तक अपना यह कौशल नहीं दिखा पाए हैं। मुंबई के लिए अच्छी खबर यह है कि न सिर्फ ओपनर क्विंटन डिकॉक ने पिछले मैच में फार्म में वापसी की बल्कि उसके मध्यक्रम के बल्लेबाजों विशेषकर क्रुणाल पंड्या ने भी लय हासिल करने की झलक दिखायी।

सूर्यकुमार यादव को अपनी अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदलना होगा जबकि कीरोन पोलार्ड को भी अपनी आक्रामकता बरकरार रखने की जरूरत है। यह देखना होगा कि ईशान किशन को अंतिम एकादश में जगह मिलती है या नहीं। चेन्नई को यदि मुंबई पर जीत हासिल करनी है तो दीपक चाहर, सैम कुरन और रविंद्र जाडेजा को अनुशासित गेंदबाजी करनी होगी।

फाफ लेंगे परीक्षा
चेन्नई के मध्यक्रम की अभी तक खास परीक्षा नहीं हुई है क्योंकि फाफ डुप्लेसिस और रुतुराज गायकवाड ने पिछले कुछ मैचों में टीम को शानदार शुरुआत दिलाकर जीत में अहम भूमिका निभाई। इन दोनों के लिए ट्रेंट बोल्ट और जसप्रीत बुमरा के सामने अपनी बेहतरीन फॉर्म बनाए रखना चुनौती होगी। बोल्ट और बुमरा डेथ ओवरों में भी कारगर साबित हुए हैं।

मध्यक्रम में मोईन अली भी चेन्नई के लिए अच्छी भूमिका निभा रहे हैं तो निचले क्रम में जाडेजा अपनी भूमिका से पूरा न्याय कर रहे हैं। जाडेजा गेंदबाजी में भी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं और वह मुंबई के बल्लेबाजों को परेशानी में डाल सकते हैं। हालांकि कोटला की धीमी पिच पर लेग स्पिनर राहुल चाहर की भूमिका भी महत्वपूर्ण हो जाती है। उन्होंने अभी तक 11 विकेट लिए हैं। उन्हें दूसरे छोर से क्रुणाल और जयंत यादव से सहयोग की दरकार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: