नियमों की अनदेखी से केंद्र नाराज,लापरवाही ला सकती है कोरोना की तीसरी लहर

नियमों की अनदेखी से केंद्र नाराज,लापरवाही ला सकती है कोरोना की तीसरी लहर

नई दिल्ली. कोरोना वायरस के मामलों (Coronavirus in India) में कमी देखे जाने के बाद देश के अधिकतर राज्यों में लॉकडाउन में ढील दे दी गई है. इस ढील के चलते अब बाजारों व अन्य जगहों पर लोगों की भारी भीड़ देखी जा रही है. इसे लेकर केंद्र सरकार ने नाराजगी जताई है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक लॉकडाउन (Lockdown) से राहत के बीच नियमों की अनदेखी से केंद्र सरकार नाराज है. बाजार, बस स्टेशन और पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही लापरवाही को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने सभी राज्यों को चिट्ठी लिखी है.

केंद्रीय सचिव ने लिखा है कि ऐसी लापरवाही कल को तीसरी लहर के तौर पर मुसीबत बन सकती है. उन्होंने राज्यों को निर्देश दिए है कि कोविड उपयुक्त व्यवहार को अमल में लाना सुनिश्चित करें. स्वास्थ्य सचिव के इस पत्र से पहले बुधवार को केंद्रीय गृह सचिव ने भी बुधवार को राज्यों को पत्र लिखकर नियमों की अनदेखी न करने के निर्देश दिए थे. मंत्रालय ने कहा कि पर्वतीय पर्यटन स्थलों सहित देश के अनेक हिस्सों में कोविड रोधी नियमों का ‘‘खुला उल्लंघन’’ देखा गया है और राज्यों तथा केंद्रशासित प्रदेशों को दिशा-निर्देशों का अनुपालन कराने से जुड़े अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए.

कुछ दिन पहले स्वास्थ्य मंत्रालय की पीसी में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने भी कहा था कि जब तीसरी लहर की बात करते हैं, तो शायद लोगों को लगता है कि हम मौसम का अपडेट दे रहे हैं. लोग कोरोना की गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं.

सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को भेजे गए पत्र में केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने यह भी कहा है कि सार्वजनिक परिवहन में कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं किया जा रहा और बाजारों में जबरदस्त भीड़ देखने को मिल रही है तथा भौतिक दूरी बनाकर रखने के नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है.

भल्ला ने जोर देकर कहा कि कोविड-19 की दूसरी लहर अभी समाप्त नहीं हुई है और हर किसी को आत्मसंतुष्ट न होने की बात ध्यान में रखनी चाहिए तथा कोविड उचित व्यवहार का पालन करना चाहिए.

उन्होंने कहा कि महामारी के मामलों में कमी आने के बाद राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने धीरे-धीरे आर्थिक गतिविधियों को फिर से खोलने की शुरुआत की है, लेकिन प्रतिबंधों में ढील की प्रक्रिया को बहुत सोच-समझकर अंजाम दिया जाना चाहिए.

गौरतलब है कि भारत में 41,806 और लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 3,09,87,880 पर पहुंच गयी जबकि उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 4,32,041 हो गयी है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *