मुस्लिम शख्स गा रहा है महाभारत का टाइटल सॉन्ग, देखें वायरल वीडियो

मुस्लिम शख्स गा रहा है महाभारत का टाइटल सॉन्ग, देखें वायरल वीडियो

हाइलाइट्स

  • बीआर चोपड़ा की 'महाभारत' से जुड़ी हुई हैं करोड़ों भारतीयों की यादें
  • टाइटल सॉन्‍ग को आज भी खूब पसंद करते हैं लोग, ट्विटर पर वायरल
  • मुस्लिम बुजुर्ग गा रहे हैं, 'अथ श्री महाभारत कथा...' आया है वीडियो
  • सोशल मीडिया पर शेयर हो रहा, लोगों ने कहा- भारत की खूबसूरती यही!

नई दिल्‍ली
बचपन में हर इतवार टीवी के सामने बैठ 'रामायण' और 'महाभारत' देखने का अलग ही मजा होता था। पिछले साल जब कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन हुआ तो फिर इन दो सीरियलों की वजह से पुरानी यादें ताजा हो गईं। वो यादें फिर धुंधली हो पातीं, उससे पहले ही एक और रीफ्रेशर आ गया है। सोशल मीडिया पर बीआर चोपड़ा की 'महाभारत' के टाइटल सॉन्‍ग का एक वीडियो वायरल हो रहा है। एक मुस्लिम बुजुर्ग ने गीत को अपनी आवाज दी है। वीडियो में आसपास कुछ लोग खड़े हैं जो बड़े चाव से गीत सुनते हैं। पूर्व मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त एसवाई कुरैशी ने ट्विटर पर 'स्‍टीरियोटाइप्‍स तोड़ते हुए' कैप्‍शन के साथ वीडियो पोस्‍ट किया है।

सीरियल में 'अथ श्री महाभारत कथा...' से शुरू होने वाले इस गीत को महेन्‍द्र कपूर ने आवाज दी थी। कई लोगों ने मुस्लिम बुजुर्ग के वीडियो को 'विविधता में एकता', 'धार्मिक सीमाओं से ऊपर उठने' का प्रतीक बताया है। गीत के बीच में एक जगह शंख बजता है। यह बुजुर्ग उस जगह पर शांत हो जाते हैं। आप भी पहले यह वीडियो देखिए

 

वीडियो पर निहाल हो रहे लोग
कुरैशी के ट्वीट को नेपाल की पूर्व चुनाव आयुक्‍त इला शर्मा, कांग्रेस के दिग्‍गज नेता दिग्विजय सिंह समेत सैकड़ों लोगों ने शेयर किया है। दिग्विजय ने लिखा, 'वेल डन मौलाना साहब! आपने प्रभावित किया।' काफी लोगों ने बुजुर्ग के साफ लहजे और खूबसूरत आवाज की तारीफ की है। कुछ ने यह भी लिखा कि हर धर्म में ऐसे ही और लोगों की जरूरत है ताकि हम एक हो सकें।

 

 

राही मासूम रजा ने लिखा था स्‍क्रीनप्‍ले
बीआर चोपड़ा की 'महाभारत' की स्क्रिप्‍ट पंडित नरेंद्र शर्मा और राही मासूम रजा ने लिखी थी। रजा ने ही सीरियल का स्‍क्रीनप्‍ले लिखा। महेंद्र कपूर से शीर्षक गीत गवाया था सीरियल के संगीतकार राज कमल ने। यह गीत हर एपिसोड की शुरुआत में आता था। इसमें श्रीमद्भागवत गीता के दो श्‍लोक हैं। दूरदर्शन पर इस सीरियल का पहला एपिसोड 2 अक्‍टूबर 1988 को प्रसारित हुआ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *