कितने खतरनाक थे हिमयुग के पिल्ले? गैंडों को बनाते थे अपना शिकार, पेट में मिले अवशेष

कितने खतरनाक थे हिमयुग के पिल्ले? गैंडों को बनाते थे अपना शिकार, पेट में मिले अवशेष

मॉस्को
कुत्ते के छोटे-छोटे पिल्ले पालतू जानवरों में इंसानों की पहली पसंद होते हैं। ये बेहद प्यारे और चंचल स्वभाव के होते हैं। अक्सर पिल्ले जिस भी चीज को देखते हैं उसे खाने या चाटने लगते हैं। फिर चाहें वह कचरा हो या इंसानों के खाने की प्लेट। हिमयुग (Ice Age) के पिल्ले भी इससे बहुत अलग नहीं थे। कुछ दिनों पहले एक स्टडी सामने आई थी जिसमें वैज्ञानिकों प्राचीन कुत्तों के जीवन को लेकर कुछ खुलासे किए थे।

विज्ञान के आगे खड़े किए सवाल
इस रिसर्च के नतीजों ने वैज्ञानिकों को चौंका दिया। वैज्ञानिकों को एक पिल्ले की ममी के पेट के अंदर एक हिम युग के गेंडे का एक टुकड़ा मिला है। किसी जानवर के पेट के भीतर अन्य जानवर का सैंपल मिलना बेहद दुर्लभ है। इससे वैज्ञानिकों को यह समझने में मदद मिलेगी कि प्राचीन प्राणियों के बीच शिकारी और शिकार की प्रवृत्ति कैसी थी। हालांकि इस खोज ने विज्ञान के आगे नए सवाल खड़े कर दिए हैं कि आखिर एक पिल्ले के पेट में एक गैंडे का टुकड़ा कैसे आया?

जीवों पर जलवायु परिवर्तन का असर
अगस्त में इस खोज की घोषणा Current Biology पत्रिका में की गई थी। यह एक बड़े अध्ययन के हिस्से के रूप में सामने आया है जो दिखाता है कि जलवायु परिवर्तन ने हिमयुग के जानवरों को किस तरह प्रभावित किया। इस शोध के दौरान, वैज्ञानिकों को एक पिल्ले की ममी मिली जिसका नाम Tumat उस जगह के नाम पर रखा गया जहां साइबेरिया में वह पाया गया। अध्ययन के पहले लेखक एडाना लॉर्ड ने बताया कि पिल्ले के पेट के अंदर एक कलाकृति की खोज की गई।

जानवर के अंदर जानवर बेहद असामान्य
अतीत में संरक्षित प्राचीन जीवों के पेट में पौधों के अवशेष पाए जाते थे लेकिन यह एक 'जीव' था। उन्होंने कहा, 'जहां तक हम जानते हैं किसी जानवर के पेट में किसी अन्य जानवर का टुकड़ा पाया जाना बेहद असामान्य और असंभव है।' पिल्ले और गैंडे के नमूने इतनी अच्छी तरह से संरक्षित थे कि वैज्ञानिक दोनों का अच्छी तरह से विश्लेषण कर सकते थे। यह नमूने Permafrost में दबे हुए थे। लॉर्ड के मुताबिक मिट्टी की यह परत किसी फ्रीजर की तरह काम करती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *