fbpx

UAE: भारतीयों के लिए यूएई जाना हुआ महंगा, दोगुने से भी ज्यादा हुआ फ्लाइट किराया

अबू धाबी
भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच हवाई सेवाओं की शुरुआत होने के बाद इस मार्ग पर भीड़ का अंदाजा सभी को था। माना जा रहा था कि टिकट की कीमतें महंगी होने के कुछ हफ्तों बाद सामान्य हो जाएंगी लेकिन ऐसा होता दिख नहीं रहा है। अगस्त में यूएई से भारत का औसतन किराया लगभग Dh450 था जो हाल के हफ्तों में दोगुने से भी ज्यादा हो चुका है।

कोरोना वायरस की तीसरी लहर के डर से भारत ने अभी तक अंतरराष्ट्रीय कमर्शियल फ्लाइट्स को पूरी तरह से शुरू नहीं किया है, जिसकी वजह से कीमतें आसमानों को छू रही हैं। दिवाली पर यूएई से भारत का किराया करीब Dh5,000 था। यूरेनस ट्रेवल्स के जॉन गॉलर का कहना है कि हाल के आईपीएल मैचों और मौजूदा टी20 क्रिकेट विश्व कप ने भी टिकटों की कीमतों को बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि पीक सीजन की यात्रा के कारण हवाई किराए में और बढ़ोत्तरी होगी।

बजट एयरलाइंस भी हुई महंगी
इस महीने यूएई से भारत की यात्रा करने वालों को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। इसका कारण 2019 की तुलना में उड़ानों की कम संख्या भी है। टिकट को दामों में बढ़ोत्तरी ने बजट एयरलाइंस को भी महंगा कर दिया है। फ्लाईदुबई एयरलाइंस में यूएई से भारत के लिए एक इकोनॉमी टिकट की कीमत Dh750 से Dh1,500 है। यात्रियों के बीच Emirates फिलहाल सबसे अधिक मांग वाली एयरलाइन बनी हुई है जिसके बाद फ्लाईदुबई, इंडिगो और एयर इंडिया एक्सप्रेस हैं।

होटल के दाम भी तीन गुने बढ़े
गॉलर ने कहा कि सिर्फ हवाई यात्रा ही नहीं, होटल की दरें भी तीन गुना तक बढ़ गई हैं। थ्री और फोर स्टार वाले होटलों में लोकेशन की परवाह किए बगैर भारी मांग देखी जा रही है। भारी मांग के चलते कीमतों में उछाल आया है। होटल के एक कमरे की कीमत Dh110 थी जिसकी कीमत अब Dh300 है। टी20 विश्वकप और एक्सपो दुबई 2020 के चलते बड़ी संख्या में भारतीय पर्यटक यूएई पहुंच रहे हैं।