fbpx

सलमान खुर्शीद की नई किताब पर बैन लगाइए, दिल्‍ली हाई कोर्ट में वकील की याचिका

नई दिल्ली
दिल्ली उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर हिंदुत्व पर कथित टिप्पणी के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद की पुस्तक के प्रकाशन, प्रसार और बिक्री को रोकने का निर्देश देने की मांग की गई है। एडवोकेट विनीत जिंदल द्वारा एडवोकेट राज किशोर चौधरी के माध्यम से दायर याचिका में कहा गया है कि खुर्शीद द्वारा हाल ही में लॉन्च की गई किताब 'सनराइज ओवर अयोध्या: नेशनहुड इन आवर टाइम' में हिंदुत्व की तुलना आईएसआईएस और बोको हराम जैसे कट्टरपंथी जिहादी समूहों से की गई है।

बेहद गंभीर धाराओं में केस की मांग
यह टिप्पणी पुस्तक के पृष्ठ 113 पर 'द केसर स्काई' नामक एक अध्याय में की गई है, जिसमें कहा गया है कि आईएसआईएस और बोको हराम के लिए हिंदू धर्म की समानता को एक नकारात्मक विचारधारा के रूप में माना जाता है जिसका हिंदू पालन कर रहे हैं और हिंदू धर्म हिंसक, अमानवीय और दमनकारी है।

मप्र में सलमान खुर्शीद की किताब पर लगेगा बैन
मध्य प्रदेश के गृहमंत्री डा नरोत्तम मिश्रा ने विधि-विषेषज्ञों से राय लेकर पुस्तक के बैन तक किए जाने की बात कही है। मिश्रा ने संवाददाताओं से चर्चा करते हुए कहा कि, सलमान खुर्शीद ने यह निंदनीय पुस्तक छापी है। विधि विशेषज्ञों से राय कराएंगे और इस पुस्तक को बैन कराएंगे। मिश्रा ने कांग्रेस नेताओं पर हमला बोलते हुए कहा, वे हिंदुत्व को खंडित करने का, हिंदुओं केा जाति में बांटने का कोई अवसर छोड़ते नहीं है। देश केा खंडित करने वाले लोग है, देश के टुकड़े होंगे, इंशा अल्लाह-इंशा अल्लाह, कहने वाले के पास सबसे पहले राहुल गांधी गए थे, यह वही विचार है जिसको सलमान खुर्शीद आगे बढ़ा रहे है।