fbpx

90 साल के चना बेचने वाले को अपनी जेब से दिए 1 लाख, श्रीनगर के SSP ने जीत लिया दिल

हाइलाइट्स

  • श्रीनगर के स्ट्रीट वेंडर ने जिंदगीभर पाई-पाई जोड़ी
  • कुछ लुटेरों ने बुजुर्ग को पीटा और लूट ले गए जुटाई रकम
  • अकेले रहने वाले बुजुर्ग ने अपने अंतिम संस्कार के लिए जोड़े थे रुपये
  • बुजुर्ग की परेशानी देखकर आईपीएस संदीप चौधरी ने बढ़ाया मदद को हाथ

श्रीनगर
खाकी का खौफ लोगों के दिल में रहता है लेकिन खाकी के पीछे इंसान होता है। ऐसे ही एक आईपीएस ने मानवता की मिसाल पेश की है। श्रीनगर में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने एक बुजुर्ग की मदद के लिए हाथ बढ़ाया, जिसके जीवनभर की कमाई कुछ लोग लूट ले गए। पटरी दुकानदार बुजुर्ग ने अपने अंतिम संस्कार के लिए यह रकम पाई-पाई जोड़कर रखी थी।

श्रीनगर के एसएसपी संदीप चौधरी ने 90 साल के स्ट्रीट वेंडर को अपनी व्यक्तिगत बचत से 1 लाख रुपये दिए। पुराने श्रीनगर के बोहरी कदल इलाके में सड़क किनारे चना बेचने वाले अब्दुल रहमान की मदद करने के एसएसपी के इस कदम की कई लोग तारीफ कर रहे हैं।

एसएसपी कर रहे जांच
अब्दुल रहमान को शनिवार को कुछ लुटेरों ने पीटा था और वे उसकी पूरी जमा पूंजी 1 लाख रुपये लेकर फरार हो गए थे, जिसे उन्होंने अपने अंतिम संस्कार के लिए बचा के रखा था। एसएसपी संदीप ने कहा कि मानवता पैसे और अन्य वस्तुओं से काफी बड़ी है। एसएसपी संदीप चौधरी ने बताया कि पुलिस ने मामला दर्ज करके इसकी जांच शुरू कर दी है। वह खुद इस मामले की निगरानी कर रही हैं।

इस बीच सोशल मीडिया पर आईपीएस संदीप चौधरी की जमकर तारीफ हुई। यह पहली बार नहीं था जब युवा आईपीएस अधिकारी उन लोगों की मदद करने के लिए चर्चा में थे, जिन्हें उनकी जरूरत थी।

सब इंस्पेक्टर पद पर हुआ चयन
कुछ साल पहले, प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए जरूरतमंद छात्रों की उन्होंने मदद की। उन्हें इसका फल मिला। उनके प्रयास से 38 विद्यार्थियों का चयन राज्य पुलिस के विभिन्न विंगों में सब-इंस्पेक्टर के पद के पर हुआ।