fbpx

गर्म होता समुद्री पानी, अम्लीय महासागर...खतरे में पड़ा विशाल सीपियों का अस्तित्व, बढ़ी टेंशन

सिंगापुर
गहरे सागर के नीचे स्थित प्रवाल भित्तियों में रहने वाले प्राणियों के बारे में सोचते हुए हो सकता है कि आपका ध्यान उन विशाल सीप की तरफ जाए, जिसकी लंबाई एक मीटर और वजन 250 किलोग्राम तक हो सकता है यह धरती पर सबसे बड़े जलीय सीप है। लेकिन इसके आकार और प्रसिद्धि के बावजूद, विशाल सीपियां संकट में है। जलवायु परिवर्तन के कारण हिंद-प्रशांत का उष्णकटिबंधीय जल गर्म होता जा रहा है, और उनके खोल तथा मांस की बहुत मांग है। इन कारणों से कुछ तो पहले से ही स्थानीय रूप से विलुप्त हैं।

 

आज के हमारे नए शोध में पाया गया है कि ये प्रतिष्ठित विशाल जलजीव समुद्री ताप और जलवायु परिवर्तन के साथ आने वाले अम्लीय महासागरों जैसे नए खतरों का सामना कर रहे हैं। क्या उनका खेल खत्म हो गया है? अभी नहीं। हमारा मानना है कि ऐसे नए तरीके हैं जिनसे हम प्रवाल भित्तियों पर सीपियों का प्रबंधन कर सकते हैं, साथ ही इन खतरों को झेल पाने के लिए डिज़ाइन किए गए नए प्रजनन कार्यक्रम बना सकते हैं और जब हम शुद्ध-शून्य ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन तक पहुंच जाते हैं तो इन्हें बचाने के लिए समय मिल जाता है।

करिश्माई जीव आठ महान प्रजातियों में से एकमात्र अकशेरुकी प्राणी
19 वीं शताब्दी की अतिशयोक्तिपूर्ण समुद्री यात्राओं की कहानियों और प्रशांत द्वीप की किंवदंतियों में आदमखोर ठहराए जाने के बावजूद- विशाल सीप बड़े भले जीव हैं। ये करिश्माई जीव उन आठ महान प्रजातियों में से एकमात्र अकशेरुकी प्राणी हैं, जिन्हें ग्रेट बैरियर रीफ आने वालों के लिए मंटा किरणों और क्लाउनफ़िश के साथ देखने लायक चीजों की सूची में शामिल किया गया है। यहां, विशाल सीप को पर्याप्त रूप से संरक्षित किया गया है और यहां आने वाले लोग दुनिया की बारह विशाल सीप प्रजातियों में से आठ को देख सकते हैं।

ऑस्ट्रेलियाई जलक्षेत्र में विशाल सीप अभी भी खूब दिखाई देते हैं, अन्य क्षेत्रों में अति-शोषण के कारण उनकी संख्या कम है। हमें अपने विशाल सीप को आने वाले नए खतरों से बचाने के लिए अन्य तरीकों की आवश्यकता है। यदि हम उन्हें बचाते हैं, तो हम उनकी प्रसिद्धि से प्रवाल भित्तियों में रहने वाले अन्य जीवों को भी बचा सकते हैं। इससे मूंगा, मछली और अन्य अकशेरुकी जीवों को बचाया जा सकेगा। प्रकृति के संरक्षण से संबंधित अंतरराष्ट्रीय संघ द्वारा अति शोषण के कारण प्रजातियों की लाल सूची में नौ विशाल सीप प्रजातियों को लंबे समय से शामिल किया गया है।

जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण विशाल सीप के लिए बड़े खतरे पैदा कर रहे
वन्य जीवों और वनस्पति परिशिष्टों की लुप्तप्राय प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर कन्वेंशन के तहत सभी विशाल सीप संरक्षित हैं। तेजी से वैश्विक जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण अब विशाल सीप के लिए बड़े नए खतरे पैदा करते हैं, जबकि धीरे-धीरे अम्लीय महासागर अब लाल सागर से प्रशांत महासागर तक सभी विशाल सीप प्रजातियों को प्रभावित करते हैं। महासागर के अम्लीकरण से जानवरों के लिए मजबूत खोल बनाना और बनाए रखना कठिन हो जाता है, खासकर उनके शुरुआती जीवन के दौरान। सबसे अच्छी जैव विविधता संरक्षण रणनीति है कि जितनी जल्दी हो सके शुद्ध-शून्य कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन तक पहुंचा जाए और वैश्विक ताप के बढ़ने की रफ्तार को 1.5 डिग्री सेल्सियस की सीमा तक रोककर एक स्थिर जलवायु प्राप्त की जाए। इससे विशाल सीप और प्रवाल भित्तियों को बचाने में मदद मिलेगी।