fbpx

ब्रिटेन में मिला 18 करोड़ साल पुराने 'समुद्री ड्रैगन' का दैत्‍याकार कंकाल

हाइलाइट्स

  • डायनासोर की तलाश करने वाले वैज्ञानिकों को 18 करोड़ साल पुराने 'समुद्री ड्रैगन' का कंकाल मिला
  • इस खोज को ब्रिटेन के इतिहास में मिले सबसे महान जीवाश्‍मों की खोज में से एक माना जा रहा है
  • यह समुद्री ड्रैगन डॉल्फिन की तरह से दिखता है और 30 फुट लंबा है, इसकी खोपड़ी ही 1 टन की है

लंदन
ब्रिटेन में डायनासोर की तलाश करने वाले वैज्ञानिकों को मिडलैंड इलाके में 18 करोड़ साल पुराने 'समुद्री ड्रैगन' का कंकाल मिला है। इस खोज को ब्रिटेन के इतिहास में मिले सबसे महान जीवाश्‍मों की खोज में से एक माना जा रहा है। इचथ्योसॉर या मीनसरीसृप की इस खोज से ब्रिटिश वैज्ञानिक बेहद खुश हैं। यह समुद्री ड्रैगन डॉल्फिन की तरह से दिखता है और 30 फुट लंबा है। इसकी खोपड़ी ही 1 टन की है।

द सन की रिपोर्ट के मुताबिक यह ब्रिटेन में मिला अपनी तरह का सबसे विशाल और अपनी तरह का पूर्ण जीवाश्‍म है। इस जीवाश्‍म की खोज जोइ डेविस ने फरवरी 2021 में की थी। रुटलैंड के पानी के पास‍ मिला यह सी ड्रैगन करीब 82 फुट तक हो सकता था। इचथ्योसॉर को सी ड्रैगन इसलिए कहा जाता था क्‍योंकि उनके दांत और आंखें बहुत बड़ी-बड़ी होती थीं। सबसे पहले इचथ्योसॉर की खोज 19वीं सदी में जीवाश्‍म विज्ञानी मैरी अन्‍नीइंग ने की थी।

sea dragon skeleton

ब्रिटेन में मिला समुद्री ड्रैगन का कंकाल तस्‍वीर साभार द सन

9 करोड़ साल पहले ये धरती से विलुप्‍त
इस जीव का अध्‍ययन करने वाले डॉक्‍टर डीन लोमैक्‍स ने कहा, 'ब्रिटेन में इचथ्योसॉर के कई जीवाश्‍म मिलने के बाद भी यह उल्‍लेखनीय है क्‍योंकि यह ब्रिटेन में मिला सबसे बड़ा कंकाल है।' उन्‍होंने कहा कि यह वास्‍तव में एक अप्रत्‍याशित खोज है। साथ ही ब्रिटिश जीवाश्‍मीय इतिहास में हुई अब तक की सबसे महान खोजों में से एक है। दुनिया में करीब 25 करोड़ साल पहले सबसे पहले इचथ्योसॉर अस्तित्‍व में आए थे और 9 करोड़ साल पहले वे धरती से विलुप्‍त हो गए। ये आकार में देखने में डॉल्फिन की तरह से होते थे।

वैज्ञानिकों का कहना है कि इचथ्योसॉर इंग्‍लैंड और अटलांटिक समुद्र के पानी में हर जगह मौजूद थे। उनके शरीर की तुलना में इचथ्योसॉर की आंखें बड़ी होती थीं। अभी हाल ही में अमेरिका में वैज्ञानिकों की एक टीम ने डायनासोर के समय के इचथ्योसॉर की खोज की थी। इस जीव की लंबाई 55 फीट तक देखी गई है। रिसर्च से पता चला है कि मछली के आकार के इन समुद्री सरीसृपों (Reptiles) का आकार 24 करोड़ साल पहले काफी तेजी से बढ़ा था। इस जीव के सिर का आकार 6.5 फीट मापा गया है।

ह्वेल की तुलना में तेजी से बढ़ा यह जीव
कैलिफोर्निया के स्क्रिप्स कॉलेज में जीव विज्ञान के एसोसिएट प्रोफेसर और वरिष्ठ शोधकर्ता लार्स शमित्ज ने अपनी स्टडी में कहा है कि इचिथ्योसॉर ने व्हेल की तुलना में अपने आकार को काफी तेजी से बढ़ाया है। वह भी उस समय में जब धरती से डायनासोर जैसे जीव तेजी से विलुप्त हो रहे थे। उन्होंने इसे वैज्ञानिकों के लिए एक बड़ी खोज करार दिया और कहा कि इससे धरती पर जीवन के विकास से जुड़े कई खुलासे हो सकते हैं।