fbpx

Video: क्या हुआ जब हुई प्लेन और ट्रेन की टक्कर ? देखते रह गए लोग, फिर चमत्‍कार!

हाइलाइट्स

  • ट्रेन की पटरी पर क्रैश हुआ छोटा विमान, दोनों की हुई भयानक टक्कर
  • क्रैश हुए विमान में जा घुसी तेज रफ्तार मेट्रो ट्रेन, बाल-बाल बचा पायलट
  • पावर सप्लाई ठप्प होने के चलते क्रैश हुआ था विमान, अस्पताल में भर्ती पायलट

वाशिंगटन
एक विमान और एक ट्रेन की टक्कर का वीडियो बीते दिनों सोशल मीडिया पर शेयर किया गया जो काफी भयानक था। एक छोटा विमान दुर्घटनाग्रस्त होकर रेलवे ट्रैक पर आ गया था। मेट्रोलिंक ट्रेन रविवार को पकोइमा में विमान से टकरा गई। यह जबरदस्त टक्कर लॉस एंजिल्स पुलिस विभाग के ओसबोर्न स्ट्रीट पर फ़ुटहिल स्टेशन से कुछ दूर वाइटमैन एयरपोर्ट के पास हुई। पायलट जहाज पर अकेला सवार था और आसपास मौजूद लोगों ने उसे टक्कर से कुछ सेकेंड पहले ही विमान से बाहर खींच लिया।

लॉस एंजिल्स पुलिस विभाग ने घटना के बॉडी कैमरा फुटेज पोस्ट किए जिसमें देखा जा सकता है कि अधिकारी पायटल को बचाने के लिए विमान से बाहर खींच रहे हैं। LAPD वैली ब्यूरो की ट्वीट के अनुसार विमान की पावर सप्लाई बाधित हो गई थी, जिसके बाद वह ट्रैक पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। पायलट को अज्ञात हालत में अस्पताल ले जाया गया। किसी गंभीर चोट की सूचना नहीं दी गई है।

 

टक्कर के बाद ट्रेनों की आवाजाही रोकी गई
एलएएफडी ने कहा कि क्षतिग्रस्त विमान अभी भी मेट्रोलिंक एंटेलोप वैली लाइन ट्रेन की पटरियों पर है और इस क्षेत्र में सभी ट्रेनों की आवाजाही प्रतिबंधित कर दी गई है। क्षेत्र में सैन फर्नांडो रोड और ओसबोर्न स्ट्रीट को भी बंद कर दिया गया है। चालक दल ने सफाई अभियान चलाया और दुर्घटना की जांच अभी जारी है। पिछले महीने ब्रिटिश एयरवेज के एक प्‍लेन में सवार 200 लोगों की जान उस समय बाल-बाल बच गई थी जब हवा में उड़ रहे एक प्‍लेन पर उसके ऊपर उड़ रहे दूसरे प्‍लेन से बर्फ का टुकड़ा आ गिरा था।

बर्फ के टुकड़े से बर्बाद हुआ विमान का विंडस्‍क्रीन
बर्फ के टुकड़े की टक्‍कर से बोइंग 777 विमान का दो इंच मोटा विंडस्‍क्रीन पूरी तरह से बर्बाद हो गया। बताया गया था कि दूसरा प्‍लेन करीब 1 हजार फुट ज्‍यादा ऊंचाई पर उड़ रहा था। जब दुर्घटना हुई उस समय विमान हवा में 35 हजार फुट की ऊंचाई पर उड़ रहा था। यह विमान क्रिसमस के दिन लंदन के गेटविक से कोस्‍टारिका के सान जोसे जा रहा था।

प्‍लेन का विंडस्‍क्रीन कुछ उसी तरह से होता है जैसे बुलेटप्रूफ शीशे होते हैं। ये शीशे ऊंचाई पर अत्‍यधिक दबाव में भी बने रहते हैं। हालांकि दुर्घटना का यह दुर्लभ मामला लाखों में एक होता है। बीच हवा में इस हादसे के बाद भी सभी 200 यात्री पूरी तरह से सुरक्षित रहे लेकिन विमान के आपात लैंडिंग के बाद यात्री काफी देर तक एयरपोर्ट पर फंसे रहे।