fbpx

सपा ने निकाल दिया अब थामा BJP का दामन, जानें कौन हैं मुलायम के समधी हरिओम यादव?

लखनऊ
उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की अधिसूचना लगने के बाद नेताओं की दल-बदली जारी है। भाजपा नेताओं के पार्टी छोड़ने के बीच समाजवादी पार्टी में फिरोजाबाद जिले के कद्दावर नेता हरिओम यादव बीजेपी में शामिल हो गए। हरिओम का दावा है कि उनका असर छह विधानसभाओं पर है।

क्रिकेट में क्या होता है डेंजर एरिया, जिसपर शमी के सपोर्ट में अंपायर से भिड़ गए कोहली

हरिओम यादव ने दिल्ली में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के समक्ष भाजापा की सदस्यता ली। हरिओम यादव का भाजपा में शामिल होना समाजवादी पार्टी को बड़ा झटका दे सकता है। हरिओम का सबसे ज्यादा प्रभाव फिरोजाबाद में है। उसके अलावा सैफई और इटावा के कुछ इलाकों में भी उनकी अच्छी पकड़ है।

मुलायम के बेहद करीबी
फिरोजाबाद जिले में समाजवादी पार्टी का परचम लहरा ने में हरीओम यादव की अपनी एक विशेष भूमिका रही है। हरिओम यादव को सपा के संस्थापक और पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव का बेहद करीबी माना जाता है। वह वर्तमान में सिरसागंज के विधायक हैं। उसका एक कारण यह भी है कि वह मुलायम सिंह यादव परिवार के समधी भी हैं।

इस तरह से हरिओम और मुलायम बने समधी
मुलायम सिंह यादव के बड़े भाई रतन सिंह यादव थे। रतन सिंह के बेटे रणवीर सिंह यादव की शादी हरिओम यादव के भाई राम प्रकाश नेहरू की बेटी मृदुला यादव के साथ हुआ है। मतलब हरिओम यादव मृदुला के चाचा हैं। मृदुला सैफई की ब्लॉक प्रमुख और पूर्व सांसद तेज प्रताप सिंह यादव की मां हैं।

हरिओम की पत्नी और बेटा जिला पंचायत सदस्य
सैफई में हर साल आयोजित होने वाला सैफई महोत्सव रणविजय सिंह यादव की स्मृति में ही मनाया जाता है। हरिओम यादव की पत्नी रामसखी यादव और उनका बेटा विजय प्रताप सिंह यादव इस समय जिला पंचायत सदस्य हैं। इससे पहले दोनों जिला पंचायत अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

शिवपाल के खेमे में चले गए थे हरिओम
हरिओम यादव ने हमेशा पूरे दमखम से पार्टी का साथ दिया एक बार शिकोहाबाद से और दो बार सिरसागंज विधानसभा से विधायक निर्वाचित हुए कुछ समय से समाजवादी पार्टी के महामंत्री प्रफेसर राम गोपाल यादव से उनके नक्षत्र नहीं मिल रहे थे जिसकी वजह से वह शिवपाल यादव के करीबी माने जा रहे थे।

ब्रह्मांड में मिला 'आलू' के जैसा ग्रह, अजीबोगरीब आकार देख धरती के खगोलविद हैरान

राम गोपाल ने 6 साल के लिए किया था निष्कासित

परिवार में मतभेद के बाद हरिओम यादव प्रगतिशील समाजवादी पार्टी से जुड़ गए थे। इसलिए राम गोपाल यादव ने उन्हें समाजवादी पार्टी से निष्कासित कर दिया था। पिछले सप्ताह हरिओम यादव के एक विरोधी नेता रामवीर यादव द्वारा भाजपा से सपा में अपनी वापसी कर ली गई थी।

बीजेपी का जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाया
2021 में हुए जिला पंचायत चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की जिला पंचायत अध्यक्ष हर्षिता सिंह बनीं। हरिओम यादव पर आरोप है कि उन्होंने हर्षिता के जिला पंचायत अध्यक्ष बनने में उनकी मदद की। हरिओम ने अपनी पत्नी, बेटे समेत छह जिला पंचायत सदस्यों के वोट सपा के जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ डलवाए।