डेल्टा को रोकेगा ओमीक्रोन का संक्रमण? ICMR की नई स्टडी से जग रही उम्मीद

हाइलाइट्स

  • ओमीक्रोन संक्रमण से ठीक हुए लोगों में कोरोना के हर वेरिएंट के खिलाफ मजबूत सुरक्षा देने वाली इम्यूनिटी
  • इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च की ताजा स्टडी के मुताबिक ओमीक्रोन संक्रमण डेल्टा से सुरक्षा दे रहा
  • आईसीएमआर ने ओमीक्रोन से संक्रमित कुल 39 लोगों पर स्टडी की है, इनमें से 6 लोगों ने वैक्सीन को कोई डोज नहीं ली थी

राज्यपाल ने हाथ जोड़े तो दूसरी ओर देखने लगीं ममता! सुवेंदु बोले- तोड़ा प्रोटोकॉल

नई दिल्ली : कोरोना वायरस (Coronavirus in India) के तेजी से फैलने वाले वेरिएंट ओमीक्रोन से संक्रमित (Omicron infection) लोगों में जो नेचुरल इम्यूनिटी पैदा हो रही है वो डेल्टा जैसे घातक वेरिएंट को भी रोकने में कामयाब है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की एक स्टडी से पता चला है कि ओमीक्रोन संक्रमण से उबरने वाले लोगों में जो इम्यूनिटी बन रही है वह न सिर्फ इस वेरिएंट बल्कि डेल्टा समेत कोरोना के बाकी वेरिएंट्स से भी मजबूत सुरक्षा दे रही है। इसे यूं समझ सकते हैं कि ओमीक्रोन संक्रमण से उबर चुके लोगों के फिर से संक्रमित होने की आशंका बहुत कम है। इसके अलावा ओमीक्रोन तेजी से अब डोमिनेंट स्ट्रेन के तौर पर डेल्टा की जगह ले रहा है यानी अब ज्यादातर मामले ओमीक्रोन के सामने आ रहे हैं, डेल्टा के घट रहे हैं।

26 जनवरी को bioRxiv पर रिलीज हुई आईसीएमआर की स्टडी में ओमीक्रोन पर केंद्रित वैक्सीन रणनीति बनाने की जरूरत पर जोर दिया गया है। ये स्टडी 39 लोगों पर की गई है। इनमें से 25 कोविशील्ड की दोनों खुराक ले चुके थे। 8 लोग ऐसे थे जिन्होंने फाइजर वैक्सीन के दोनों डोज लिए थे और 6 ने वैक्सीन की कोई भी खुराक नहीं ली थी।

IIT से पद्म भूषण सम्मान तक का सफर: जानें Google CEO सुंदर पिचाई की सफलता और संघर्ष की कहानी

जिन 39 लोगों पर स्टडी की गई, उनमें से 28 लोग ऐसे थे जो यूएई, अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों से वापस आए थे। बाकी 11 इन लोगों के हाई-रिस्क कॉन्टैक्ट्स थे यानी सीधे उनके संपर्क में आए थे। ये सभी लोग कोरोना वायरस के ओमीक्रोन वेरिएंट से संक्रमित हुए थे। स्टडी के मुताबिक, संक्रमण मुक्त होने के बाद इन सभी लोगों में जो इम्यून रिस्पॉन्स डिवेलप हुई, वो ओमीक्रोन के साथ-साथ डेल्टा और बाकी सभी वेरिएंट के खिलाफ सुरक्षा देने में सक्षम है। हालांकि, इस स्टडी की अपनी कुछ सीमाएं हैं क्योंकि सैंपल साइज छोटा है। उसमें भी खासकर अनवैक्सीनेटेड लोगों का सैंपल और भी छोटा है। इसके अलावा संक्रमण के बाद की अवधि छोटी है।

 

ओमीक्रोन संक्रमण से ठीक हुए लोगों में कोरोना के सभी वेरिएंट के खिलाफ मजबूत प्रतिरोधक क्षमता पैदा होना एक अच्छा संकेत है। इसका मतलब ये हुआ कि ओमीक्रोन की वजह से देश में संक्रमण के मामले भले ही तेजी से बढ़ रहे हैं लेकिन ये डेल्टा जैसे खतरनाक वेरिएंट को भी रोक सकता है। ओमीक्रोन डोमिनेंट वेरिएंट के तौर पर डेल्टा की जगह ले रहा है और जल्द ही डेल्टा को पूरी तरह रीप्लेस कर सकता है। दरअसल, डेल्टा वेरिएंट बहुत ही घातक था। उसी की वजह से भारत में कोरोना की विनाशकारी दूसरी लहर आई थी।

 

आईसीएमआर (Indian Council of Medical research) की तरफ से की गई इस स्टडी में प्रज्ञा डी यादव, गजानन एन सपकाल, रिमा आर सहाय और प्रिया अब्राहम शामिल हैं। इसे बायो-आरxiv प्री-प्रिंट सर्वर पर 26 जनवरी को रिलीज किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: