असम-मिजोरम की सीमा पर फिर क्यों अचानक बढ़ गया है तनाव?

आइजोल: मिजोरम की राजधानी आइजोल की सेंट्रल जेल में बुधवार को एक कैदी की संदिग्ध मौत हो गई। यह कैदी असम का रहने वाला था और जेल में हत्या के आरोप में बंद था। कैदी की मौत के बाद अंतर-राज्यीय सीमा की शांति एक बार फिर भंग हो गई। असम के कछार में धोलाई इलाके में जमकर बवाल हुआ। उपद्रवियों की भीड़ ने पहाड़ी राज्य में आपूर्ति करने वाले ट्रकों पर पथराव और तोड़फोड़ की।

कछार के धोलाई रामप्रसादपुर के 48 वर्षीय तेल टैंकर चालक के रॉबिन सिंह उर्फ प्रबीन सिंघा को पिछले महीने मिजोरम के लेंगपुई गांव के पास खून से लथपथ पाया गया था। उनके शरीर पर कई गहरे कट थे, उसे आइजोल सिविल अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहां पहुंचने पर उसे मृत घोषित कर दिया गया।

ट्रक में हेल्पर था नृपेन
पुलिस ने बाद में ट्रक चालक के हेल्पर और मुख्य संदिग्ध 50 वर्षीय नृपेन सिंह को धोलाई के गिरफ्तार कर लिया। वह हत्या के बाद से फरार था। नृपेन ने कथित तौर पर पुलिस को बताया कि उसने रोबिन को हाइवे पर बुइचली पुल के पास एक छुरे से काट दिया क्योंकि उसने रॉबिन ने उसकी बेईज्जती की थी और उसे खाने के लिए रुपये तक देने से इनकार कर दिया था।

1 को जेल भेजा गया, 2 को हुई मौत
आइजोल न्यायिक अदालत ने संदिग्ध को जेल में भेज दिया और उसे 1 फरवरी को केंद्रीय जेल में ट्रांसफर कर दिया गया। रिपोर्टों में कहा गया है कि नृपेन की मौत आत्महत्या से हुई। बुधवार सुबह करीब छह बजे जेल के एक वार्डन ने उसे अपनी कोठरी में लटका पाया। यह भी बताया गया कि 2 फरवरी की रात को अपने पिछले सेल के दो कैदियों को ईंट से पीटा था, उसके बाद उसे एकांत कारावास में ट्रांसफर कर दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: