क्या मैं UP के सभी लोगों को बोल सकता हूं भगवा धारण करें... हिजाब विवाद में अब योगी की एंट्री

लखनऊ: हिजाब विवाद (Hijab Controversy) अब उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election) के मैदान में बड़ा मुद्दा बनने लगा है। यूपी चुनाव के दूसरे चरण से पहले इस विवाद को खूब तूल दिया गया। समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party), असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) से लेकर प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) तक ने कर्नाटक के स्कूलों में हिजाब बैन (Hijab Ban) किए जाने पर मोर्चा खोला। उत्तर प्रदेश के 9 जिलों की 55 विधानसभा सीटों पर सोमवार को वोटिंग हो रही है। इसमें से कम से कम 7 जिलों में मुस्लिम वोटर डिसाइडर की भूमिका निभाते हैं। ऐसे में हिजाब विवाद के जरिए एक बड़े वोट बैंक (Muslim Vote Bank) को अपने पक्ष में करने की कोशिश की गई। सीएम योगी ने इस मामले में सवाल किया है कि क्या मैं प्रदेश के लोगों को भगवा पहनने को कह सकता हूं।

 

 

अब यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) हिजाब विवाद में कूद गए हैं। इसके साथ ही यूपी के चुनावी मैदान में हिजाब बनाम भगवा की राजनीति का भी आगाज हो गया है। सीएम योगी के बयान ने एक नए विवाद की तरफ कदम बढ़ाया है। योगी आदित्यनाथ ने हिजाब विवाद पर बड़ा बयान दे दिया है। उन्होंने कहा है कि क्‍या मैं यूपी के सभी लोगों को बोल सकता हूं कि भगवा धारण करें। उन्‍होंने कहा कि भारत की व्यवस्था संविधान के अनुरूप चलनी चाहिए। हमारी व्यक्तिगत आस्था और पसंद-नापसंद हम देश और संस्थाओं पर लागू नहीं कर सकते हैं। क्या मैं उत्तर प्रदेश सरकार के सभी कर्मचारियों या प्रदेश के लोगों को बोल सकता हूं कि आप भी भगवा धारण करें? स्कूल में ड्रेस कोड लागू होना चाहिए।

अब मुद्दे को सेट कर रहे योगी
दूसरे चरण में तमाम विपक्षी दलों ने हिजाब विवाद के जरिए एक बड़े वोट बैंक को एकजुट करने की कोशिश की है। दरअसल, दूसरे चरण की 9 जिलों में मुस्लिमों की आबादी इसके पीछे अहम मुद्दा रहा। दूसरे चरण में जिन जिलों में वोट पड़ रहे हैं, उसमें से मुरादाबाद में मुस्लिम आबादी कुल आबादी का 50.80 फीसदी और रामपुर में 50.57 फीसदी है। इसके अलावा बिजनौर में 43.04 फीसदी, सहारनपुर में 41.95 फीसदी, अमरोहा में 40.04 फीसदी, बरेली में 34.54 फीसदी और संभल में 32.88 फीसदी मुस्लिम आबादी है।बदायूं में 23.26 फीसदी और शाहजहांपुर में 17.55 फीसदी मुस्लिम आबादी भी मुद्दा हैं। इन दोनों को छोड़ भी दें तो 7 जिलों में मुस्लिम वोट बैंक के एकजुट होने की स्थिति में किसी दूसरे को जीतना मुश्किल होगा। ऐसे में हिजाब विवाद का असर हो सकता है। लेकिन, ऐन चुनाव के दिन योगी ने इस मुद्दे को छेड़कर अगले चरणों के लिए मुद्दा गरमा दिया है।

तीन तलाक का भी उठाया मुद्दा
सीएम योगी आदित्यनाथ ने हिजाब मुद्दे पर हो रही राजनीति का जवाब तीन तलाक को लेकर लिए गए फैसले से दिया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने बेटियों को सशक्त बनाने के लिए ही तीन तलाक का फैसला किया है। उन्हें स्वाबलंबी बनाने की कोशिश की जा रही है। उसी के बेटी के हित के लिए हम सरीयत की जगह संविधान के अनुसार फैसले लिए जाने की बात कर रहे हैं। हर बेटी को सुरक्षा, हर बेटी के सम्मान और हर बेटी का स्वाबलंबन का कार्य होगा।

प्रियंका ने दिया था बड़ा बयान
हिजाब विवाद पर प्रियंका गांधी का बड़ा बयान सामने आया था। उन्होंने साफ कहा था कि लड़कियों को क्या पहनना है, इसका फैसला कोई दूसरा कैसे कर सकता है? उन्होंने कहा कि यह फैसला करना महिलाओं का अधिकार है कि उन्हें क्या पहनना है। पहनावे को लेकर उत्पीड़न बंद होना चाहिए। उन्होंने 'लड़की हूं, लड़ सकती हूं' हैशटैग से ट्वीट किया था कि चाहे वह बिकनी हो, घूंघट हो, जींस हो या हिजाब हो, यह फैसला करने का अधिकार महिलाओं का है कि उन्हें क्या पहनना है। प्रियंका ने कहा कि इस अधिकार की गारंटी भारतीय संविधान ने दी है। महिलाओं का उत्पीड़न बंद करो।

ओवैसी और सपा नेता का भी बयान
हिजाब विवाद पर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का बड़ा बयान सामने आ चुका है। उन्होंने कहा कि हिजाब महिलाओं का मौलिक अधिकार और उनके सशक्तिकरण का मुद्दा है। साथ ही, उन्होंने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर हिजाब विवाद पर उठ रहे सवालों से भागने का भी आरोप लगाया। उनकी चुप्पी को सवालों के घेरे में लाया। हालांकि, सपा नेता रुबीना खानम एक वीडियो में कहती दिख रही है कि हिजाब पर हाथ डालने वालों का हाथ काट देंगे। इस प्रकार समाजवादी पार्टी भी इस मामले में कूद चुकी है। ऐसे में योगी आदित्यनाथ का ताजा बयान इस मुद्दे को अगले चरणों के चुनाव में प्रभावी बनाने में बड़ी भूमिका निभाने वाला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: