युद्ध वाले इलाकों से पश्चिम की ओर बढ़ें, यूक्रेन में फंसे नागरिकों को भारतीय दूतावास का नया संदेश

नई दिल्ली. युद्धग्रस्त यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों को एक नए संदेश में पूर्वी यूरोपीय देश के भारतीय दूतावास ने उन्हें “सुरक्षा स्थिति और मौजूदा नियमों” के कारण संघर्ष वाले क्षेत्रों से पश्चिमी क्षेत्र में जाने के लिए कहा है. रविवार को ट्विटर पर दूतावास ने कहा कि कीव से पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर यूक्रेन रेलवे मुफ्त “आपातकालीन ट्रेनों” का आयोजन कर रहा है. बयान में कहा गया कि ट्रेनों की लिस्ट रेलवे स्टेशनों पर देखी जा सकती है.

यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने नागरिकों से कहा, “भारतीय नागरिकों को यूक्रेन से रोमानिया और हंगरी के रास्ते निकाला जा रहा है. हम अपने नागरिकों के लिए पड़ोसी देशों के साथ और अधिक सीमाएं खोलने के लिए लगातार काम कर रहे हैं.” यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने वहां के कई शहरों पर रूस के हमलों तथा राजधानी कीव के आसपास भीषण लड़ाई की खबरों के मद्देनजर यह ताजा संदेश जारी किया है.

रूसी सेना यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव में घुसी
इस बीच, कई हवाई अड्डों, ईंधन केंद्रों तथा अन्य प्रतिष्ठानों पर हमले के बाद रूसी सेना रविवार को यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव में दाखिल हो गई. खारकीव क्षेत्रीय प्रशासन के प्रमुख ओलेह सिनेहुबोव ने रविवार को बताया कि यूक्रेनी सेना शहर में रूसी सैनिकों से लड़ रही है और उन्होंने नागरिकों से घरों से बाहर नहीं निकलने को कहा है. खारकीव रूस की सीमा से 20 किलोमीटर की दूरी पर है और रूसी सैनिक खारकीव में घुस गए हैं. इससे पहले तक वे शहर के बाहरी इलाके में ही थे और उन्होंने शहर में घुसने की कोशिश नहीं की थी.

यूक्रेन को अमेरिका और जर्मनी से मदद
दूसरी ओर, यूक्रेन की सहायता के लिए अमेरिका ने टैंक-रोधी हथियारों, बख्तरबंद और छोटे हथियारों सहित यूक्रेन को अतिरिक्त 35 करोड़ डॉलर देने का वचन दिया. जर्मनी ने कहा कि है वह यूक्रेन को मिसाइल और टैंक रोधी हथियार भेजेगा तथा रूसी विमानों के लिए अपने हवाई क्षेत्र को बंद कर देगा. अमेरिका, यूरोपीय संघ और ब्रिटेन ने ‘चिह्नित’ किए गए रूसी बैंकों को स्विफ्ट वैश्विक वित्तीय प्रणाली से प्रतिबंधित करने पर सहमति व्यक्त की है. इस प्रणाली के जरिए दुनिया भर में 11,000 से अधिक बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों से धन स्थानांतरित होता है.

यूक्रेन से दो लाख से अधिक लोग भागे : संयुक्त राष्ट्र
संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी ने कहा कि पड़ोसी देशों में पहुंच रहे यूक्रेन के नागरिकों की संख्या अब दो लाख के पार चली गई है. शरणार्थियों मामलों के संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त ने ट्वीट किया कि रूसी बलों के आक्रमण की वजह से भाग रहे लोगों की संख्या अब लगातार बदल रही है और इस पर अद्यतन जानकारी रविवार को जारी की जाएगी. एजेंसी ने शनिवार को अनुमान जताया कि यूक्रेन के कम से कम 1,50,000 नागरिक भागकर पोलैंड और हंगरी तथा रोमानिया समेत अन्य देश चले गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: