'कश्मीर फाइल्स' से झंडे लेकर घूमने वाली जमात बौखला गई है, 5-6 दिन से जारी है साजिश: मोदी

हाइलाइट्स

  • पीएम नरेंद्र मोदी कश्मीर फाइल्स के विरोधियों पर जमकर साधा निशाना
  • पीएम ने कहा कि झंडा लेकर घूमने वाली जमात बौखला गई है
  • मोदी ने कहा कि जिसे फिल्म अच्छी नहीं लगी वो दूसरी बना लें
नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज बीजेपी संसदीय दल की बैठक (BJP Parliamentary Board) में फिल्म कश्मीर फाइल्स (Kashmir Files) का जिक्र कर इसके विरोधियों पर जमकर निशाना साधा। पीएम ने कहा कि हमेशा फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन के झंडे लेकर घूमने वाली पूरी जमात बौखला गई है। पीएम मोदी ने कहा कि अगर किसी ने उस समय हिम्मत के साथ काम करके महात्मा गांधी के जीवन पर फिल्म बनाई होती और दुनिया के सामने रखी होती तो हम मेसेजिंग कर पाते। पहली बार एक विदेशी ने गांधी फिल्म बनाई और उसे जब ऑस्कर मिला तब जाकर दुनिया को यह बात पता चली कि गांधी इतने महान व्यक्ति हैं।


इमर्जेंसी की घटना पर नहीं बनी कोई फिल्म

लेकिन कुछ लोग फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन की बात करते हैं। आपने देखा होगा, इमर्जेंसी इतनी बड़ी घटना, कोई फिल्म नहीं बना पाया। कोई सत्य को दबाने का लगातार प्रयास किया गया। जब हमने भारत विभाजन के दिन 14 अगस्त को हॉरर डे के रूप में याद करने का तय किया, तो कई लोगों को बड़ी मुसीबत हो गई। कैसे भूल सकता है देश... कभी कभी उससे कुछ सीखने को भी मिलता है। क्या भारत विभाजन पर कोई ऑथेंटिक फिल्म बनी?

कश्मीर फाइल्स पर फ्रीडम एक्सप्रेशन वाली पूरी जमात बौखला गई है
इन दिनों कश्मीर फाइल्स फिल्म की चर्चा चल रही है और जो लोग हमेशा फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन के झंडे लेकर घूमते हैं, वह पूरी जमात बौखला गई है पिछले पांच छह दिन से। इस फिल्म की तथ्यों और आर्ट के आधार पर विवेचना करने के बजाय इसको डिसक्रेडिट करने के लिए पूरी मुहिम चलाई जा रही है। आपने यह देखा होगा। उसको जो सत्य लगा, उसने उसे दिखाने की कोशिश की। लेकिन उस सत्य को न समझने की तैयारी है, न स्वीकारने की तैयारी है। न ही दुनिया इसको देखे, यह उनको मंजूर है। जिस प्रकाश षडयंत्र पिछले पांच-छह दिन से चल रहा है.. मेरा विषय यह फिल्म नहीं है, मेरा विषय है कि जो सत्य है उसे देश के सामने लाना देश की भलाई के लिए होता है। उसके कई पहलू हो सकते हैं। किसी को एक चीज नजर आ सकती है, किसी को दूसरी।
जिसे फिल्म अच्छी नहीं लगी, वो दूसरी फिल्म बना लें
पीएम ने कहा कि जिसको लगता है कि यह फिल्म ठीक नहीं है, वह अपनी दूसरी फिल्म बनाएं। लेकिन उनको हैरानी हो रही है, जिस सत्य को इतने दिनों तक दबा कर रखा गया, जिसे तथ्यों के आधार पर बाहर लाया जा रहा, कोई मेहनत करके ला रहा है, पूरी कोशिश लग गई। ऐसे में सत्य के खातिर जीने वाले लोगों की जिम्मेदारी है कि सत्य के खातिर वे खड़े हों। यह जिम्मेदारी मुझे है हर कोई निभाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: