गुजरात ने बुक कराया प्लेऑफ का टिकट, जानें दिल्ली-चेन्नई सहित अन्य टीमों के पास कितना है मौका

नई दिल्ली: आईपीएल-2022 का रोमांच चरम पर है। गुजरात टाइअंस की टीम ने लखनऊ सुपर जायंट्स को हराते हुए प्लेऑफ का टिकट बुक कर लिया। इस फ्लाइट में सवार होने वाले यात्रियों की संख्या अब बढ़नी शुरू होगी, लेकिन सीट 4 ही है तो कुछ बड़ी टीमों का दिल भी टूटेगा। 5 बार की मुंबई इंडियंस पहले ही प्लेऑफ की दौड़ से बाहर हो चुकी है तो 4 बार की चैंपियन चेन्नई की राह भी बहुत मुश्किल है। आइए जानें किस टीम के लिए कैसा सेनेरिया बन रहा है...

गुजरात टाइटंस (12 मैच, 9 जीत, 3 हार, 18 पॉइंट्स, +0.376 नेट रन रेट) - क्वॉलिफाइ
हार्दिक पंड्या की कप्तानी वाली गुजरात टाइटंस ने लखनऊ सुपर जायंट्स पर धांसू जीत के साथ ही आईपीएल-2022 प्लेऑफ का टिकट पाने वाली पहली टीम बन गई। उसके 12 मैचों में 18 पॉइंट्स हैं, जबकि अभी भी उसके दो मैच बचे हुए हैं। वह चाहेगी कि चेन्नई और बैंगलोर के खिलाफ मैच में कम से कम एक और जीत दर्ज कर, जिससे कि टीम की टॉप-20 पोजिशन शुरक्षित रहे।

बचे हुए मैच: vs चेन्नई सुपर किंग्स (15 मई), vs रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (19 मई)

लखनऊ सुपर जायंट्स (12 मैच, 8 जीत, 4 हार, 16 पॉइंट्स, +0.385 नेट रन रेट)
केएल राहुल की कप्तानी वाली टीम के 16 पॉइंट्स हैं और माना जा रहा है कि इन अंकों के साथ भी वह प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाइ कर जाएगी, लेकिन अगर उसे फाइनल में पहुंचने के लिए दौ मौके चाहिए तो उसे कम से कम एक मैच तो जीतना ही होगा।

बचे हुए मैच: vs राजस्थान रॉयल्स (15 मई), vs कोलकाता नाइटराइडर्स (18 मई)

राजस्थान रॉयल्स (11 मैच, 7 जीत, 4 हार, 14 पॉइंट्स, +0.326 नेट रन रेट)
गुजरात और लखनऊ के अलावा राजस्थान रॉयल्स ही है, जिसके पास टॉप-2 फिनिश करने का मौका है। इस टीम के 3 मैच बचे हुए हैं और अगर तीनों में जीत दर्ज करती है तो वह टॉप-2 में पहुंच जाएगी, जबकि एक जीत के साथ भी प्लेआफ में पहुंचने का मौका मिल सकता है। हालांकि, यह काफी कुछ नेट रन रेट पर निर्भर करेगा।

बचे हुए मैच: vs दिल्ली कैपिटल्स (11 मई), vs लखनऊ सुपर जायंट्स (15 मई), vs चेन्नई सुपर किंग्स (20 मई)

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (12 मैच, 7 जीत, 5 हार, 14 पॉइंट्स, -0.115 नेट रन रेट)
फाफ डु प्लेसिस की कप्तानी में RCB काफी उतार-चढ़ाव के साथ प्लेऑफ के करीब पहुंची है। उसके दो मैच बचे हैं और अगर दोनों में जीत दर्ज करती है तो उसके 16 पॉइंट्स होंगे। 16 पॉइंट्स के साथ प्लेआफ में उसका पहुंचना थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि रन रेट माइनस में है।

बचे हुए मैच: vs पंजाब किंग्स (13 मई), vs गुजरात टाइटंस (19 मई)

दिल्ली, हैदराबाद और पंजाब: एक ही जगह खड़ी हैं तीनों टीमें
इन तीन टीमों के 10-10 पॉइंट्स हैं। दिल्ली का ही नेट रन रेट पॉजिटिव में है। दिल्ली अगर तीनों मैच जीतती है तो राजस्थान और पंजाब की प्लेऑफ की राह मुश्किल हो जाएगी। अगर एक हार मिलती है तो उसके प्लेऑफ की राह दूसरी टीमों के भाग्य भरोसे हो जाएगी।

दिल्ली कैपिटल्स (11 मैच, 5 जीत, 6 हार, 10 पॉइंट्स, +0.150 नेट रन रेट)
बचे हुए मैच: 
vs राजस्थान रॉयल्स (11 मई), vs पंजाब किंग्स (16 मई), vs मुंबई इंडियंस (21 मई)

सनराइजर्स हैदराबाद (11 मैच, 5 जीत, 6 हार, 10 पॉइंट्स, -0.031 नेट रन रेट)
बचे हुए मैच:
vs कोलकाता नाइटराइडर्स (14 मई), vs मुंबई इंडियंस (17 मई), vs पंजाब किंग्स (22 मई)

पंजाब किंग्स (11 मैच, 5 जीत, 6 हार, 10 पॉइंट्स, -0.231 नेट रन रेट)
बचे हुए मैच: 
vs रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (13 मई), vs दिल्ली कैपिटल्स (16 मई), vs सनराइजर्स हैदराबाद (22 मई)

कोलकाता और चेन्नई: उम्मीदें हैं, लेकिन...
इन दोनों टीमों की उम्मीदों की सांसे टूटने की कगार पर है। क्योंकि 4 टीमों का 14 से अधिक पॉइंट्स हैं, जबकि अगर ये दोनों टीमों अपने सभी बचे हुए मैच जीत लें तो 14 पॉइंट्स तक पहुंचेंगी। कुल मिलाकर कोई करिश्मा ही इन्हें प्लेऑफ का टिकट दिला सकता है।

कोलकाता नाइटराइडर्स (12 मैच, 5 जीत, 7 हार, 10 पॉइंट्स, -0.057 नेट रन रेट)
बचे हुए मैच: 
vs सनराइजर्स हैदराबाद (14 मई), vs लखनऊ सुपर जायंट्स (18 मई)

चेन्नई सुपर किंग्स (11 मैच, 4 जीत, 7 हार, 8 पॉइंट्स, +0.028 पॉइंट्स)
बचे हुए मैच: 
vs मुंबई इंडियंस (12 मई), vs गुजरात टाइटंस (15 मई), vs राजस्थान रॉयल्स (20 मई)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: