डबल से भी ज्‍यादा ग्रोथ का चांस है बॉस! गौतम अडाणी ने क्‍यों किया अंबुजा सीमेंट्स और ACC का टेकओवर?

हाइलाइट्स

  • अंबुजा सीमेंट्स अब अडानी समूह का, 81,360 करोड़ में जीती बोली
  • एक झटके में भारत के नए सीमेंट 'किंग' बन गए गौतम अडाणी
  • होल्सिम की अंबुला में 63.19% और ACC में 54.53% हिस्‍सेदारी है
  • भारत में सीमेंट की खपत केवल 242 किलोग्राम प्रति व्यक्ति है
लखनऊ में नाराज कार्यकर्ताओं को 2 दिन तक मनाते रहे राकेश टिकैत, BKU हुई दो फाड़

नई दिल्ली: एशिया के सबसे अमीर कारोबारी गौतम अडाणी के समूह ने रविवार को होल्सिम ग्रुप (Holcim Group) के भारतीय कारोबार के अधिग्रहण की बोली जीत ली है। इसका मतलब है कि अब होल्सिम ग्रुप की सीमेंट कंपनी 'अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड' और 'एसीसी लिमिटेड' के कारोबार का मालिकाना हक अडाणी समूह के पास होगा। यह डील करीब 81,360 करोड़ रुपये में हुई है। होल्सिम ग्रुप के पास अंबुजा सीमेंट की 63.1 फीसदी और एसीसी में 54.53 फीसदी हिस्सेदारी है। अब ये अडानी समूह की होगी। साथ ही, कंपनी की संपत्तियों पर भी इसी का हक होगा। भारत में मुख्यतौर पर होल्सिम की पहचान अंबुजा सीमेंट और एसीसी लिमिटेड के जरिए ही है। अडाणी ग्रुप की तरफ से ये अबतक का सबसे बड़ा अधिग्रहण है। इसके अलावा इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड मटीरियल के क्षेत्र में ये भारत का अब तक का सबसे बड़ा अधिग्रहण माना जा रहा है। स्विटजरलैंड की इस कंपनी ने 17 साल पहले भारत में एंट्री की थी।

सीमेंट में ग्रोथ का बहुत चांस है!
भारत में सीमेंट की खपत केवल 242 किलोग्राम प्रति व्यक्ति है, जबकि वैश्विक औसत 525 किलोग्राम प्रति व्यक्ति की तुलना में, भारत में सीमेंट क्षेत्र के विकास की महत्वपूर्ण संभावनाएं हैं। तेजी से शहरीकरण, बढ़ते मध्यम वर्ग और किफायती आवास के साथ-साथ निर्माण और अन्य बुनियादी ढांचा क्षेत्रों में महामारी से उबरने के साथ-साथ अगले कई दशकों में सीमेंट क्षेत्र के विकास को जारी रखने की उम्मीद है।

अंबुजा सीमेंट्स और एसीसी के पास इस समय 70 एमटीपीए की संयुक्त रूप से स्थापित उत्पादन क्षमता है। दोनों कंपनियां भारत में सबसे मजबूत ब्रांडों में से हैं, जिनके पास निर्माण और आपूर्ति श्रृंखला बुनियादी ढांचे की गहराई है, जो उनके 23 सीमेंट संयंत्रों, 14 पीसने वाले स्टेशनों, 80 तैयार-मिश्रण कंक्रीट संयंत्रों और पूरे भारत में 50,000 से अधिक चैनल भागीदारों द्वारा प्रतिनिधित्व करते हैं।

लखनऊ में नाराज कार्यकर्ताओं को 2 दिन तक मनाते रहे राकेश टिकैत, BKU हुई दो फाड़
अलग-अलग सेक्‍टर्स में अडाणी का दबदबा
अडाणी समूह ने पिछले कुछ वर्षों में बंदरगाहों, बिजली संयंत्रों और कोयला खदानों के अपने मुख्य व्यवसाय से अलग हवाई अड्डों, डेटा केंद्रों और स्वच्छ ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में प्रवेश कर विविधता लाई है। समूह ने पिछले साल सीमेंट क्षेत्र में दो सहायक कंपनियों अडाणी सीमेंटेशन लिमिटेड और अडाणी सीमेंट लिमिटेड की स्थापना की थी। अडाणी सीमेंटेशन लिमिटेड गुजरात के दहेज और महाराष्ट्र के रायगढ़ में दो सीमेंट इकाइयां स्थापित करने की योजना बना रही है।फिनलैंड को अंधेरे में डूबोने जा रहे पुतिन, बिजली सप्लाई रोकगा रूस, भारी पड़ रहा NATO का याराना!
अडाणी ग्रुप का सबसे बड़ा अधिग्रहण
अडाणी समूह ने एक बयान में कहा, 'अडाणी परिवार ने एक ऑफशोर स्पेशल पर्पस व्हीकल (सहायक कंपनी) के जरिए घोषणा की है कि उसने भारत की दो प्रमुख सीमेंट कंपनियों अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड और एसीसी लिमिटेड में स्विट्जरलैंड स्थित होलसिम लिमिटेड की पूरी हिस्सेदारी के अधिग्रहण के लिए निश्चित समझौते किए हैं।' बयान में कहा गया, 'अंबुजा सीमेंट्स और एसीसी के लिए होलसिम की हिस्सेदारी और खुली पेशकश पर विचार का मूल्य 10.5 अरब डॉलर है, जो इसे अडाणी समूह द्वारा अब तक का सबसे बड़ा अधिग्रहण बनाता है और बुनियादी ढांचे और सामग्री के क्षेत्र में भारत का सबसे बड़ा विलय और अधिग्रहण लेनदेन है।'

होलसिम ने एक बयान में कहा, 'अंबुजा सीमेंट के लिए शेयर कीमत 385 रुपये और एसीसी के लिए शेयर कीमत 2,300 रुपये की इसी पेशकश की कीमत होलसिम के लिए 6.4 अरब सीएचएफ (स्विस फ्रैंक) की नकद आय में तब्दील हो जाती है।' दुनिया की सबसे बड़ी सीमेंट निर्माता होलसिम ने पिछले महीने यहां लंबे समय तक संघर्ष करने के बाद देश से बाहर निकलने की घोषणा की थी। दो सूचीबद्ध कंपनियों एसीसी और अंबुजा के माध्यम से कंपनी के पास 6.6 करोड़ टन प्रति वर्ष क्षमता (एमटीपीए) है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: