आजादी के ठीक 20 साल बाद जब राष्ट्रपति का चुनाव बन गया सेक्युलरिज्म का लिटमस टेस्ट!

‘किस्से राष्ट्रपति चुनाव के’ एनबीटी ऑनलाइन की इस सीरीज में आज पढ़िए देश के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. जाकिर हुसैन की कहानी। बंटवारे के रूप में हिंदू-मुस्लिम के बीच बोए गए नफरत के बीज के दो दशक बाद कैसे भारत ने जिन्ना की थिअरी को गलत साबित किया और सेक्युलर नेचर को सामने रखते हुए देश के सर्वोच्च पद पर मुस्लिम को प्रतिष्ठित किया।

Read more