असम में जगहों के नाम बदलेंगे CM हिमंत, बनेगा पोर्टल...जानें क्या है तैयारी

हिमंत बिस्व सरमा का राजनीतिक सफर कांग्रेस से शुरू हुआ है। वह कांग्रेस के टिकट पर पहली बार 2001 में विधायक बने थे। लगातार तीन बार कांग्रेस के ही टिकट पर जीते। 2016 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने असम में पहली बार सत्ता पाने में कामयाबी पाई थी, जिसका श्रेय हिमंत को ही गया लेकिन सीएम पद उनके हाथ नहीं आया।

Read more

असम CM बोले- मुस्लिमों के पूर्वज बीफ नहीं खाते थे, मैं उन्हें याद दिलाता हूं तो गलत क्या है?

असम सीएम ने यहां तक कहा कि असम की जमीन से सारे अवैध कब्जे हटाए जा रहे हैं। अगर असम का कोई नागरिक भी अवैध कब्जे में जमीन रखे हुए है तो उसे भी छुड़ाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब असम के निवासी हटाए जाते हैं तो लेफ्ट लिबरल शोर नहीं करता है।

Read more