Rishabh Pant: ऋषभ पंत के साथ था उनका 'सुरक्षा कवच', जिसकी वजह से बाल-बाल बची जान!

Spread the love

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत भीषण कार एक्सीडेंट में बाल-बाल बचे हैं। पंत का यह रोड एक्सीडेंट रुड़की में हुआ। हादसा इतना भयंकर था कि उनकी कार कुछ ही सेकेंड में आग के गोले में तब्दील हो गया। पंत को देहरादून के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनकी हालत अभी स्थिर बताई जा रही है। पंत को सिर और पैर में चोट लगी है। घटनास्थल की जो तस्वीरें सामने आई उसे देखकर यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि पंत को दूसरा जीवन मिला है।

इस दौरान यह खबरें भी सामने आई कि जब उनके कार का एक्सीडेंट हुआ था उनका समाना कुछ लोगों ने चोरी कर ली, जिसमें कुछ कैश के अलावा गले की चेन और हाथ का ब्रेसलेट शामिल था लेकिन पुलिस में बाद में इसका खंडन किया है। यह वही ब्रेसलेट है जो पंत को अक्सर पहने हुए देखा गया जाता है। पंत अपने इस ब्रेसलेट को खुद के लिए लकी मानते हैं। शायद यही कारण है कि भीषण कार एक्सीडेंट में उनकी जान बाल बाल बच गई।

 

ऋषभ पंत

ऋषभ पंत

क्या है 'सुरक्षा कवच' ब्रेसलेट की कहानी

भारतीय क्रिकेटर ऋषभ पंत को ज्वैलरी पहने का खूब शौक है। गले में मोटी के चैन के अलावा हाथ में ब्रेसलेट की तस्वीर तो लगभग सबने देखी होगी लेकिन इस ब्रेसलेट की कहानी भी काफी रोचक है। दरअसल माना जाता है कि ब्रेसलेट में एक खास प्रकार का पत्थर होता है, जो पहनने वाले इंसान को अनहोनी की आहट दे देता है। अगर किसी अनहोनी घटने वाली होती है तो इस ब्रेसलेट के आकार में बदलाव आ जाता है। इसी तरह के ब्रेसलेट बॉलीवुड एक्टर सलमान खान को भी पहने हुए देखा जाता है। हालांकि एनबीटी ऑनलाइन इस तरह के ब्रेसलेट के प्रमाण का कोई दावा नहीं करता है।

दुबई से लौटे थे पंत

बांग्लादेश दौरे के बाद ऋषभ पंत दुबई में थे। यहां पंत पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह के साथ दिखे थे। इसके बाद वह भारत वापस आकर अपनी मां को सरप्राइज देना चाहते थे। इस कारण पंत ने तड़के सुबह अपने घर जाने का फैसला किया लेकिन रुड़की पहुंचते ही उनके कार का एक्सीडेंट हो गया।

पंत का बांग्लादेश दौरे पर टेस्ट सीरीज में शानदार प्रदर्शन रहा था। हालांकि इसके बावजूद उन्हें श्रीलंका के खिलाफ घरेलू टी20 और वनडे सीरीज के लिए टीम में शामिल नहीं किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *